रूपेश त्योंथ केर लघुकथा 'परदेसी'


परदेसी

- माए गे! बरद मोटेलौ कि ओहने हउ?

- ओ नै मोटाएबला हउ.

- आ गहूम जोरगर हउ ने?

- पानि पर कने जोर पकड़ने हइ....कहिया एबहक?

- अखनी छओ मास कुच्छो नै...!

फोन काटि जुगेसर सेठजीक बगइचा पटबए मे लागि गेल छल...

— रूपेश त्योंथ

- - - - - -


(मिथिमीडिया एंड्रॉएड ऐप हेतु एतय क्लिक करी. फेसबुकट्विटर आ यूट्यूब पर सेहो फ़ॉलो क' सकै छी.)