मैथिलीपुत्र किशोरीकान्त मिश्रक स्मरण मे श्रद्धांजलि सभा - मिथिमीडिया
मैथिलीपुत्र किशोरीकान्त मिश्रक स्मरण मे श्रद्धांजलि सभा

मैथिलीपुत्र किशोरीकान्त मिश्रक स्मरण मे श्रद्धांजलि सभा

Share This
मिथिला संस्कृतिक परिषद, कोलकाताक स्तम्भ किशोरीकान्त मिश्र (01 फरबरी 1939 - 29 जुलाइ 2019) जीक स्मृति मे श्रद्धांजलि सभाक बागबाजार रीडिंग लाइब्रेरीक प्रेक्षागृह मे 25 अगस्त 2019 कें सांझ 5 बजे सँ आयोजित भेल. एहि मे उपस्थित जन किशोरी बाबूक चित्र पर पुष्पंजलि अर्पित क' अपन कृतज्ञता जनओलनि. एकरा बाद विभिन्न वक्ता लोकनि हुनकर व्यक्तित्व ओ कृतित्वक स्मरण करैत किशोरी बाबू कें मैथिली आन्दोलनी, कुशल संगठनकर्ता, दूरदर्शी, भाषानुरागी, भाषा ओ साहित्यक मर्मज्ञ, अभिभावक आदिक रूप मे उल्लेख केलनि. 

वक्ता लोकिन मे प्रमुख छलाह कृष्णचन्द्र झा रसिक, भोगेन्द्र झा, प्रो. शंकर झा, नवीन चौधरी, रूपेश त्योंथ, राजीव रंजन मिश्र, आमोद झा, बिनय भूषण, नबोनारायण मिश्र, गंगा झा, आशुतोष पांडेय, प्रभुलाल मंडल, भवनाथ झा, मनोज कुमार झा, शिवचन्द्र झा, प्रेम नारायण झा, सुरेन्द्र ठाकुर, सुधा झा, संजय ठाकुर, दयाशंकर मिश्र, प्रेमचन्द्र झा, पवन कुमार मिश्र आदि. संचालन मिथिलेश कुमार झा केलनि.

मिथिला सांस्कृतिक परिषदक वरिष्ठ एवं वयोवृद्ध सदस्य भखराइन (मधेपुर) निवासी ओ कोलकाता प्रवासी भोगेन्द्र झाक मृत्यु अपन पैतृक भखराइन मे 18 अगस्त 2019 कें भ' गेलनि. सभाक अन्त मे दुइ मिनटक मौन धारण क' किशोरीकान्त मिश्र जी तथा भोगेन्द्र झा जी दुनू पुण्यात्माक शान्ति ओ सद्गति तथा शोकाकुल दुनू परिवारक धैर्य धारणक सम्बलक हेतु कामना कएल गेल.

एहि अवसर पर विमलकांत मिश्र, कृष्णनाथ राय, ललन जी, दिनेश मिश्र, छोटे, महेश मिश्र, शुभम मिश्र, गुड़िया मिश्र, मनोज झा, अमल किशोर जी, किशोरी बाबूक पारिवारिक व्यक्ति लोकनि सहित प्राय: पचास गोटे उपस्थित छलाह.



कहैत चली, गोपीपट्टी ढढिया (कमतौल, दड़िभंगा) निवासी आ कोलकाता प्रवासी किशोरीकान्त मिश्र मिथिला ओ मैथिलीक सेवा हेतुएं सुप्रसिद्ध छथि. कोलकाताक मिथिला सांस्कृतिक परिषद्क माध्यमे मैथिली भाषा, साहित्य ओ मिथिलाक सांस्कृतिक विकासक निमित्त ई सदैव सचेष्ट रहैत एलाह. भाषा-साहित्य कें बढेबा हेतु पोथी-प्रकाशन हो वा माटि पर आन्दोलन सदति तत्पर रहैत छलाह.

हिनक जाएब जहिना मिथिला समाज कें क्षति पहुंचओलक अछि तहिना हिनक जीवन संघर्ष आ काजराज जानि युवा पीढ़ी कर्मठता ओ समर्पणक प्रेरणा हासिल क' सकैत अछि. एतय किछु वर्ष पूर्व लेल हिनक साक्षात्कार पढ़ल जा सकैछ जाहि सं एकरत्ती किछु इजोत भेटि सकैत अछि-

मैथिली कें बचेबाक हेतु संघर्ष करय पड़त: किशोरीबाबू
- - - - - - - - 
(मिथिमीडिया एंड्रॉएड ऐप हेतु एतय क्लिक करी. फेसबुकट्विटर आ यूट्यूब पर सेहो फ़ॉलो क' सकै छी.)

Post Bottom Ad