बेस झमटगर रहल कोकिल मंचक 'होली मिलन' समारोह - मिथिमीडिया
बेस झमटगर रहल कोकिल मंचक 'होली मिलन' समारोह

बेस झमटगर रहल कोकिल मंचक 'होली मिलन' समारोह

Share This
होरी आबि गेल अछि आ एहि कें ल' देश-विदेश मे लोक उत्सवक तैयारी मे जुटि गेल अछि. सब अपना-अपना हिसाबें बसंती बयारक आनंद कें अंगेजि लेबाक चेष्टा मे लागल अछि. तैं महानगर मे विभिन्न समाजक लोक होली मिलन समारोह आदिक आयोजन क' रहलाह अछि. स्पष्ट अछि जे मिथिलाक लोक एहि मे पाछू कोना रहत. कोकिल मंच आने साल जकां एहू साल बीतल रवि कें होली मिलन समारोह केर जबरदस्त आयोजन केलक.

एहि आयोजन मे महानगर बुद्धिजीवी लोकनिक जुटानी देखल गेल. रंगकर्मी सं ल' कवि, लेखक, गायक, समाजसेवी आदि लोकनिक संगहि भारी संख्या मे मैथिलानी समारोह मे अपन उपस्थिति दर्ज केलनि. होरीक माहौल छलैक त' मैथिली संगीतक झमटगर प्रस्तुति भेल, ओतहि महानगरक कवि लोकनि अपन कविता प्रस्तुत केलनि. सांझ 5 बजे सं बागबाजार लाइब्रेरी हॉल मे आयोजित कार्यक्रम मे हिमाद्री मिश्र, शशिता राय, किरण झा, शैल झा सागर आदि गीत प्रस्तुत केलनि त' ओतहि कवि बिनय भूषण सं काव्य प्रस्तुतिक सिलसिला शुरू भेल.

लक्ष्मण झा सागर, शंभुनाथ मिश्र, विजय कुमार ठाकुर, लखनपति झा, संजय ठाकुर, नबोनाथ झा, अशोक झा, रूपेश त्योंथ सहित कतिपय कवि लोकनि होरी कें केंद्र क' कविता पाठ केलनि. ई कार्यक्रम कतेको अर्थ मे एहू लेल महत्वपूर्ण बनि गेल जे मैथिलानी केर बेस उपस्थिति रहल त' ओतहि विभिन्न संस्थाक प्रतिनिधि लोकनि सहजता सं भाग लेलनि. एहना खूब कम देखल जाइत अछि.

इहो पढू - होली कें ल' रूपेश त्योंथ केर किछु 'चरिपतिया'

कार्यक्रमक संचालन करैत किरण झा जेना दर्शक लोकनि सं कनेक्ट करथि सेहो अकानल गेल त' ओतहि संस्थाक सुधाचन्द्र झा सेहो अपन वक्तव्य रखबाक संगहि गीत प्रस्तुत क' होरीक रंग मे रमल देखल गेलाह. एहि अवसर पर अध्यक्ष ब्रजेश झा अपन उद्गार रखलनि आ सब कें होरीक शुभेच्छा जनओलनि. 

यएह किछु कारण अछि जे कोकिल मंच केर होरी आयोजन कें लोक साल भरि बाट तकैत अछि. ठंढइ आ ओ जलखै आब अगिले साल...तावत मिथिमीडिया दिस सं सेहो होरी पाबनिक शुभेच्छा! 

>> मिथिला मे राम खेलए होरी...

Post Bottom Ad