गुंजन श्री केर गजल - मिथिमीडिया
गुंजन श्री केर गजल

गुंजन श्री केर गजल

Share This
राइत जेना अधिया गेल छै
कियो ककरो बिसरा गेल छै

समय तेना ने चुम्मा लेलकै
लोलक धार भोथरा गेल छै

प्रेम कोना हेतैक ककरो सँ
बात सबटा ओझरा गेल छै

रूक्ख केश मुदा लट औंठिया
गरीबी कोना अगरा गेल छै

'गुंजन' कहू की बात रातिक
की अदिंता घरघरा गेल छै

Post Bottom Ad