जनकपुरक छठि केर मनोहारी दृश्य - मिथिमीडिया
जनकपुरक छठि केर मनोहारी दृश्य

जनकपुरक छठि केर मनोहारी दृश्य

Share This
जनकपुरक छठि देखबालेल देश विदेशक लोक अबैत अछि. अस्त  होइत सूर्य  के नमन करैत अनगिनत हाथक दृश्य  सरिपहुं मोनकें तृप्ति  क' दैछ. एहने पावन छठिक किछु मनभावन दृश्य. 

— राम भरोस कापडि 'भ्रमर' 







Post Bottom Ad

Pages