दीयाबाती पर राजीव रंजन मिश्र केर गजल - मिथिमीडिया
दीयाबाती पर राजीव रंजन मिश्र केर गजल

दीयाबाती पर राजीव रंजन मिश्र केर गजल

Share This
मंगल दीप जराकँ राखब
सदिखन माथ लिबाकँ राखब

साथे साथ रहत ग' दुख सुख
हल्लुक मोन बनाकँ राखब

निसि वासर त' मनत दिवाली
जा धरि बानि सजाकँ राखब

ज्ञानक दीप इजोर देखा
घुप अन्हार मिटाकँ राखब

करनी ऊँच वचनसँ मधुगर
गामक गाम जुराकँ राखब

बड अनमोल मनुखकँ काया
अनुदिन लाज बचाकँ राखब

राजीवक त' रहत विनय जे
लचरल गेह उठाकँ राखब

Post Bottom Ad