राजीव रंजन मिश्र केर गजल

दिन पलटतय एक दिन अहाँ आस लगेने रहब
मोन जुरेतय विधना बस अहाँ बाट सजेने रहब

टाका पैसा गहना गुङिया काज ने दए अहिंठाँ ककरो
बात विचार ब्यबहार अहाँ बस नीक बनेने रहब

दुनिया कनय छैक सभतरि अपनहि खातिर ऐठाँ
लोकक नीक बेजाय मे अहाँ बस हाथ बटेने रहब

बड्ड काज करय छैक बुढ-पुरानक आशीष वचन
डेग डेग पर सभक आशिर्वाद माथ लगेने रहब

बहुत कठिन छैक आइ काल्हि चलब अहि महिपर
बुद्धि विचार विवेक अपन सभ ठाम बचेने रहब

नांगरि झाङिक' चलब जगती पर चालि छी कुकुरक
टोल परोसक हक हिस्सा लेल आबाज जगेने रहब

कैलहा सभटा बिसरत “राजीव" अहाँक लोक अपन
अप्पन आनक ने बोध राखि बस रंग जमेने रहब 

Advertisement