गुंजन श्री केर गजल - मिथिमीडिया
गुंजन श्री  केर गजल

गुंजन श्री केर गजल

Share This
पूर्णमासी केर चान छल
वएह छल कि आन छल

पूरल सब सख -सेहंता
तेहने नैना कमान छल

बिसरै छी अपनो के हम
देल जे ककरो दान छल

राति पघिल आँखि द' खसल
जे की हमर गुमान छल

'गुंजन' ताके पाँछा जिनगी
केहन अप्पन शान छल

Post Bottom Ad